तुलसी के 8 ऐसे फायदे जो आप नहीं जानते होंगे !

तुलसी स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता हैं इसलिए तुलसी के इन फायदों को जरुर जानना चाहिए | आयुर्वेद में तुलसी के पौधे के हर भाग को स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद बताया गया है. तुलसी की जड़, उसकी शाखाएं, पत्ती और बीज सभी का अपना-अपना महत्व है. आमतौर पर घरों में दो तरह की तुलसी देखने को मिलती है. एक जिसकी पत्तिायों का रंग थोड़ा गहरा होता है औ दूसरा जिसकी पत्तियों का रंग हल्का होता है.  Amazing Benefits of Tulsi leaf and seeds.

तुलसी स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता हैं इसलिए तुलसी के इन फायदों को जरुर जानना चाहिए | आयुर्वेद में तुलसी के पौधे के हर भाग को स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद बताया गया है. तुलसी की जड़, उसकी शाखाएं, पत्ती और बीज सभी का अपना-अपना महत्व है. आमतौर पर घरों में दो तरह की तुलसी देखने को मिलती है. एक जिसकी पत्त‍ियों का रंग थोड़ा गहरा होता है औ दूसरा जिसकी पत्तियों का रंग हल्का होता है.  Benefits of Tulsi leaf

तुलसी एक जानी-मानी औषधि है, जिसका इस्तेमाल कई बीमारियों में किया जाता है. सर्दी-खांसी से लेकर कई बड़ी और भयंकर बीमारियों में भी एक कारगर औषधि है इसलिए तुलसी का इस्तेमाल आयुर्वेद और मेडिकल साइंस में काफी प्रचलित है। क्योकि

तुलसी के पत्तों और फूलों में ऐसे कई केमिकल कंपाउंड्स पाए जाते हैं, जिन्हें विभिन्न बिमारियों के इलाज में फायदेमंद माना जाता है और जो शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं।

तुलसी एक लो-कैलोरी हर्ब होता है जिसमें प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इन्फ्लेमेटरी और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती हैं। साथ ही यह शरीर को कई जरूरी पोषक तत्व भी प्रदान करती है जैसे विटामिन ए, सी, के, मैंगनीज, कॉपर, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम और ओमेगा-3 फैट्स। यह सभी पोषक पदार्थ शरीर को स्वस्थ रखने में काफी मदद करते हैं।

 : हमारे स्वास्थ्य के लिए तुलसी के 7 सबसे अधिक फायदे :

1.सर्दी जुकाम, बुखार और को ठीक करती है तुलसी | 

अगर आपको सर्दी या फिर हल्का बुखार है तो मिश्री, काली मिर्च और तुलसी के पत्ते को पानी में अच्छी तरह से पकाकर उसका काढ़ा पीने से फायदा होता है. बरसात के मौसम में, जब डेंगू और मलेरिया होने की सम्भावना ज्यादा होई है, तब तुलसी की ताजा और नई पत्तियों को पानी में उबालकर सेवन करें।

छोटा-मोटा बुखार होने पर एक कप पानी में कुछ तुलसी की पत्तियां और इलाइची का पाउडर डालकर उबालें और काढ़ा तैयार करें। अब इसे दिन में दो तीन बार सेवन करें। यह काढ़ा शरीर के टेम्परेचर को कम करने में मदद करेगा।

2.खांसी के लिए खास हैं तुलसी का सेवन |

 खांसी का सिरप बनाने में तुलसी को काफी इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए इस सिरप को बाजार से खरीदने के बजाय आप घर पर ही तैयार कर सकते हैं। एक कप पानी में आठ तुलसी की पत्तियां और पांच लौंग डालकर, 10 मिनट के लिए उबालें। आप इसमें स्वादानुसार नमक भी डाल सकते हैं। अब इसे ठंडा होने दें और फिर पी लें।

3.अनियमित पीरियड्स की समस्या में

अक्सर महिलाओं को पीरियड्स में अनियमितता की शिकायत हो जाती है. ऐसे में तुलसी के बीज का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है. मासिक चक्र की अनियमितता को दूर करने के लिए तुलसी के पत्तों का भी नियमित किया जा सकता है.

4.आंखों की रोशनी तथा रतोंधी के ली काफी उपयोगी हैं तुलसी |

आंखों की रोशनी को ठीक रखने के लिए विटामिन ए की जरूरत होती है। सिर्फ 100 ग्राम तुलसी की पत्तियों में ही हमारी रोज की विटामिन ए की जरूरत का हिस्सा मौजूद होता है। विटामिन ए की कमी से होने वाले रोग जैसे आंखों में दर्द और रतौंधी को ठीक करने के लिए तुलसी का जूस काफी फायदेमंद होता है। रोज सोने से पहले तुलसी के रस की दो बूंदे आंखों में डालें।

5. सिरदर्द में आराम प्रदान करती है तुलसी

तुलसी मांसपेशियों को आराम दिलानेवाली मेडिसिन (muscle relaxant) की तरह काम करती है। दिन  में दो बार तुलसी की चाय का सेवन करें। चाय बनाने के लिए एक कप उबलते पानी में कुछ पत्तियों को डालें और फिर कुछ देर के लिए इसे उबलने दें।

अब इस चाय को छानकर पी लें। छोटा-मोटा सिरदर्द होने पर आप तुलसी की पत्तियों को चबाकर या सीधे माथे पर मलकर भी आराम प्राप्त कर सकते हैं।

6.यौन रोगों के इलाज में तुलसी काफी फायदेमंद हैं |

पुरुषों में शारीरिक कमजोरी होने पर तुलसी के बीज का इस्तेमाल काफी फायदेमंद होता है. इसके अलावा यौन-दुर्बलता और नपुंसकता में भी इसके बीज का नियमित इस्तेमाल फायदेमंद रहता है. ये शरीर के अंदरूनी शक्ति को मजबूत करता हैं

7.गुर्दे की पथरी को निकालने में मदद करती है तुलसी की पत्तियों |

तुलसी किडनी के कामकाज को ठीक करती है और गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) को बाहर निकालने में मदद करती है। किडनी को स्वस्थ रखने के लिए रोज खाली पेट 5-6 तुलसी की पत्तियों का सेवन करें।

यदि आपको पथरी है तो तुलसी के जूस और शहद को बराबर मात्रा में मिलाकर सेवन करें। इसे लगातार 4-5 महीनों के लिए रोज सेवन करें। यह पथरी को मूत्र मार्ग के जरिये बाहर निकालने में मदद करेगी।

8. चेहरे की चमक के लिए
त्वचा संबंधी रोगों में तुलसी खासकर फायदेमंद है. इसके इस्तेमाल से कील-मुहांसे खत्म हो जाते हैं और चेहरा साफ होता है.

दोस्तों यदि आपके घर में तुलसी का पौधा नहीं है तो सबसे पहले इसे घर में लगायें। क्योंकि ताजा तुलसी की पत्तियां अधिक फायदेमंद होती हैं और यह पौधा आसपास की हवा को भी शुद्ध रखता है।मच्छरों को भी दूर भागता हैं नार्मल लोग भी हर रोज दो तीन पत्तियां खाएं  इससे आप जल्दी बीमार नहीं होंगे . 

 

पढ़ते रहें..

📌 kaan ka bahrapan ke gharelu Upchar कान का बहरापन
📌 Kamar Dard Gharelu Upchar कमर दर्द
📌 आधे सर में दर्द या अर्ध कपाडी, माइग्रेन Ayurved
📌 एलर्जी और गरेलू उपचार
📌 कान का बहना या कान में मवाद Ayurved
📌 Homeopathy Medicine विभिन्न औषधी से रोग का उपचार
📌 एड्स की जानकारी