ऐ नौजवानों Inspirational Hindi Poem

ऐ नौजवानों-Inspirational Hindi Poem

संभल कर रहना ऐ नौजवानों
कहीं अँधेरे में भटक ना जाना तुम
दूर के नजारों से
कहीं भ्रमित ना कभी होना तुम,

होना तुम डटकर खड़े
अपने सच्चाई के लड़ाई में
हाथ थामना कमजोर का
चलना अपनी डगर होकर निर्भय ,

संभल कर रहना,
इन्सान के वेश में बैठे उस जल्लाद से
जिसकी नजरें टिकी तुम्हारे शांत
कोमल मन के अज्ञान पे,

तुमसे ही है इस धरती का भविष्य
तुमसे ही अब सभी को आस है
जो तुम भटक जाओ सफ़र में
लानत है हमारे संस्कार पर,

जो हमने अपने कतरे-कतरे से सींचा
यह जहाँ हिन्दोस्ता है
खड़े है हाथ में लिए यह कमान
हाथ थामने तुम्हे गर्व से
संभालना ऐ नौजवानों
इस देश की धरोहर को सम्मान से ।

By:- Saumya Vilekar ( Pune, Maharashtra )

कैसा लगा ( ऐ नौजवानों Inspirational Hindi Poem),  अपना कीमती सुझाव या प्रश्न Comment Box में जरूर डालें, ताकि हम Hindi Share को आपके लिए और भी बेहतर बना सके। यदि आपके पास Hindi में अपनी Article, Idea, Story या कोई ऐसी जानकारी है जिससे लोगों को मदद मिल सके तो आप अपनी फोटो तथा Email के हमारे साथ जरूर share करें हम आपको HindiShare के Portal पर लेखक का दर्जा देंगे आपका सहयोग हमारे लिए महत्वपूर्ण है। हमारी Email ID हैं :- hindihare@gmail.com धन्यवाद ।

पढ़ते रहें..

📌 Hindu Muslim Sikh Isaiah hindi poem
📌 Meri Kala Best Hindi Poem मेरी कला
📌 चलो इंसानियत की राह : Hindi Poem
📌 सफलता की हुंकार : Inspirational Hindi Poem

Leave a Comment

*

code