Karl Marx Best Quotes in hindi 1 अनमोल विचार

Karl Marx कार्ल मार्क्स

  • हर किसी से उसकी क्षमता के अनुसार, हर किसी को उसकी ज़रुरत के अनुसार.
  • इतिहास खुद को दोहराता है, पहले एक त्रासदी की तरह, दुसरे एक मज़ाक की तरह.
  • कोई भी जो इतिहास की कुछ जानकारी रखता है वो ये जानता है कि महान सामाजिक बदलाव बिना महिलाओं के उत्थान के असंभव हैं . सामाजिक प्रगति महिलाओं की सामजिक स्थिति, जिसमे बुरी दिखने वाली महिलाएं भी शामिल हैं ; को देखकर मापी जा सकती है ,
  • लोकतंत्र समाजवाद का रास्ता है.
  • पूँजी मृत श्रम है, जो पिशाच की तरह केवल जीवित श्रमिकों का खून चूस कर जिंदा रहता है , और जितना अधिक ये जिंदा रहता है उतना ही अधिक श्रमिकों को चूसता है .
  • दुनिया के मजदूरों एकजुट हो जाओ; तुम्हारे पास खोने को कुछ भी नहीं है ,सिवाय अपनी जंजीरों के
  • धर्म लोगों का अफीम है .
  • धर्म मानव मस्तिष्क जो न समझ सके उससे निपटने की नपुंसकता है .
  • शाशक वर्ग को कम्युनिस्ट क्रांति के डर से कांपने दो . मजदूरों के पास अपनी जंजीरों के आलावा और कुछ भी खोने को नहीं है . उनके पास जीतने को एक दुनिया है . सभी देश के कामगारों एकजुट हो जाओ।
  • सामाजिक प्रगति समाज में महिलाओं को मिले स्थान से मापी जा सकती है .
  • साम्यवाद के सिद्धांत का एक वाक्य में अभिव्यक्त किया जा सकता है: सभी निजी संपत्ति को ख़त्म किया जाये .
  • नौकरशाह के लिए दुनिया महज एक हेर-फेर करने की वस्तु है .
  • इतिहास कुछ भी नहीं करता . उसके पास आपार धन नहीं होता , वो लड़ियाँ नहीं लड़ता . वो तो मनुष्य हैं, वास्तविक , जीवित , जो ये सब करते हैं .
  • शांति का अर्थ साम्यवाद के विरोध का नहीं होना है .
  • अगर कोई चीज निश्चित है तो ये कि मैं खुद एक मार्क्सवादी नहीं हूँ .
  • ज़रुरत तब तक अंधी होती है जब तक उसे होश न आ जाये . आज़ादी ज़रुरत की चेतना होती है .
  • मानसिक पीड़ा का एकमात्र मारक शारीरिक पीड़ा है .


Leave a Comment

*

code