दुसरे को बदलने से अच्छा हैं खुद को बदलो Motivational स्टोरी

Motivational Story Hindi पूरी कहानियां जरुर पढ़े | दोस्तो जब भी कोई हमारे लिए गलत करता है तब हमारे मन में बदले की भावना पैदा हो जाती है पर क्या आपने यह सोचा है कि हम अपने आप को बदलकर कर उसे भी बदल सकते है जो हमारे साथ गलत व्यवहार करता है. फ्रेंड्स इसी subject पे मैं आप से एक कहानी share करता हूँ.

 

जो एक Motivational Story Hindi में हैं |

एक गाँव सुमन नाम की लड़की रहती थी. उसके पढ़ाई पूरी होते ही घरवाले उसकी शादी के लिए लड़का देखना शुरू कर दिया और कुछ ही दिनों में सुमन की शादी पास वाले गाँव में हो गयी. शादी के बाद वह अपने पति के रहने लगी. घर पर तीन जन ही थे. एक सुमन एक उसके पति और उसकी सास. पति काम के कारण पूरा दिन बाहर ही रहते थे. कुछ दिनों तक तो सब कुछ ठीक चला .. पर कुछ महीनों बीतने के बाद सुमन और उसकी सास में कटपट होने लगी. पति ने दोनों बहुत समझाया पर कुछ भी ठीक नहीं हो रहा था. पूरी कहानी Motivational Story Hindi जरुर पढ़े |

दिन बीतता गया और सुमन और उसकी सास के रिश्ते भी बिगड़ते चले गए. एक दिन तो बात इतनी बिगड़ गयी कि मार-पीट की नौबत आ गयी. इस बात से परेशान होकर सुमन अपनी माइके चली गयी और वहाँ जाने के बाद उसने सोच लिया कि कुछ भी हो वो अपनी सास से बदला ले कर ही रहेगी. उसके गाँव एक वैध रहता था जो उसके पापा का बहुत अच्छा दोस्त था.

इसे भी पढ़िए   महात्मा गाँधी के बचपन की कहानी | क्या बापू झूठे थे ?

वो वैध के पास गयी और बोली “वैधजी मैं अपनी सास से बहुत परेशान हूँ मेरा किया उसे कुछ भी अच्छा नहीं लगता, हर काम में कमी निकालना, ताने मारना उनका स्वभाव है. मुझे किसी भी तरह उनसे छुटकारा दिला दीजिये”. गुस्से में उसने अपनी पूरी बात बोल दी. वैधजी थोड़ी देर सोचने के बाद कहा “बेटी मैं तुम्हारे पापा का बहुत अच्छा दोस्त हूँ इसलिए मैं तुम्हारी मदद करने को तैयार हूँ पर जैसा मैं बोलूँ वैसा ही करना, वरना मुसीबत में फंस सकती हो.” सुमन ने कहा “वैधजी मैं वैसा ही करूंगी जैसा आप बोलोगे और पापा को कुछ भी न बोलिएगा।”

वैधजी उठ कर अंदर चले गए और थोड़ी देर बाद जब वह आए तो उनके हाथ में जड़ी बूटियों एक डब्बा था. उन्होने डब्बा देते हुए सुमन से कहा “तुम अपनी सास को मरने के लिए किसी तेज़ जहर का इस्तेमाल नहीं कर सकती क्योकि उससे तुम पकड़ी जाओगी. प्लीज Motivational Story Hindi लास्ट तक पढ़े |

यह डब्बा लो इसके अंदर कुछ खास जड़ी-बूटियाँ हैं जो धीरे-धीरे इंसान के अंदर जहर पैदा कर देती है और सात से आठ महीनों में उसकी मौत हो जाती है. अब हर रोज़ तुम अपनी सास के कुछ पकवान बनाना और चुपके से उसमे मिला देना और ध्यान रहे इस बीच तुम्हें अपनी सास से अच्छी तरह पेश आना होगा उनकी हर बात माननी होगी ताकि मौत के बाद किसी को तुम पर शक न हो. अब तुम वापस जाओ और अपनी सास से अच्छा व्यवहार करो.”

इसे भी पढ़िए   कैसे बढ़ाएं आप अपना आत्मविश्वास ? (Self Confidence)

अब सुमन खुशी – खुशी वह डब्बा ले कर अपनी ससुराल आ गयी. अब उसका व्यवहार बिलकुल बदल चुका था. अब वो अपनी सास कि बातें मानने लगी थी और उनके लिए अच्छा से अच्छा खाना बनाने लगी थी. बीच – बीच में जब भी उसे गुस्सा आता तो वह वैधजी की बाते याद करके अपने गुस्से पे काबू पा लेती थी. 6 महीने बीतते – बीतते घर का माहौल बिलकुल बदल चुका था.

वह सास जो अपनी बहू की सिर्फ बुराई करती थी अब वह सभी से अपनी बहू तारीफ करते नहीं थकती थी. अब सुमन को भी बहुत अच्छा लागने लगा था. सुमन को अपनी सास में माँ दिखने लगी थी और सास को सुमन में अपनी बेटी. अब सुमन को अपनी सास कि मौत का डर सताने लगा था. |अगर आपके पास कोई ऐसी Motivational Story Hindi हैं तो किसी के लिए जरुर शेयर करे |

वह सास और पति से कुछ बहाना बना कर कुछ दिनों के लिए माइके आ गयी और सीधा वैधजी के पास पहुँची और रोते हुए बोली “वैधजी मेरी मदद कीजिये मैं अपनी सास को नहीं मारना चाहती वो पूरी तरह से बदल गयी है और मुझे बहुत प्यार करने लगी है. मैं भी उन्हे उतना ही प्यार करने लगी हूँ.

इसे भी पढ़िए  जीवन में सफल होना हैं तो याद रखिये ये 16 मंत्र ?

कुछ कर के उस जहर का असर खत्म कर दीजिये.” वैधजी बोले “बेटी चिंता करने कि कोई जरूरत नहीं है क्योकि मैंने तुम्हें कोई जहर दिया ही नहीं था. उस डिब्बे में स्वस्थ वर्धक जड़ी बूटिया थी जहर तो तुम्हारे दिमाग में था. तुम्हारे नज़रिये में था. लेकिन अब मैं खुश हूँ क्योकि तुमने जो सास की सेवा की उससे तुम्हारे दिमाग की जहर को खत्म कर दिया.” पूरी कहानी Motivational Story Hindi पढ़ने के लिए धन्यवाद | इसे जरुर शेयर करे |

फ्रेंड्स इस कहानी से हम क्या सीखते हैं ? Motivational Story Hindi

1. दुनिया एक आईने के समान है…. हम दूसरों से जैसा व्यवहार करेंगे वो भी हम से वैसा ही व्यवहार करेंगे.

2. हमे दूसरों को बदलने की कोशिश नहीं करनी चाहिए दूसरों को बदलने से अच्छा है खुद को बदलना.

Discussion

  1. admin

Leave a Reply