Muhammad Ali Famous Qutes in Hindi मुहम्मद अली उद्धरण

मुहम्मद अली उद्धरण

  • दोस्ती कुछ ऐसा नहीं है जो आप स्कूल में सीखते है। लेकिन यदि आपने दोस्ती का मतलब नहीं सीखा तो दरअसल आपने कुछ नहीं सीखा।
  • मुझे पता है मैं कहाँ जा रहा हूँ और मुझे सच पता है, और मुझे वो नहीं होना है जो तुम चाहते हो। मैं वो होने के लिए स्वतंत्र हूँ जो मैं चाहता हूँ।
  • वह जो जोखिम उठाने का साहस नहीं रखता अपने जीवन में कुछ हासिल नहीं कर सकता।
  • मैं ट्रैनिंग के हर एक मिनट से नफरत करता था, लेकिन मैंने कहा , हारमत मानो। अभी सह लो और अपनी बाकी की ज़िन्दगी एक चैंपियन की तरह जियो।
  • जो आदमी पचास की उम्र में दुनिया को उसी तरह देखता है जैसा कि वो बीस में देखा करता था , ने अपने जीवन के तीस साल बर्वाद कर दिए हैं।
  • नदियां , तालाब , झीलें और धाराएं – इनके अलग-अलग नाम हैं, लेकिन इन सबमे पानी होता है ठीक वैसे ही जैसे धर्म होते हैं- उन सभी में सत्य होता है .
  • दृढ वचनो की पुनरावृत्ति विश्वास पैदा करती है। और एक बार जब वो विश्वास गहरी आस्था में बदल जाता है तो चीजें होने लगती हैं।
  • अगर तुम मुझे हारने का सपना भी देखते हो तो बेहतर होगा उठ कर माफ़ी मांग लो।
  • मैं इस्लाम धर्म में यकीन रखता हूँ. मैं अल्लाह और शांति में यकीन रखता हूँ।
  • औरों की सेवा पृथ्वी पर आपके कमरे का किराया है।
  • मैं सबसे महान हूँ, मैंने ये तब कहा जब मुझे पता भी नहीं था कि मैं हूँ।
  • मैं इतना तेज हूँ कि कल रात मैंने होटल रूम में लाइट ऑफ की और रूम में अँधेरा होने से पहले अपने बेड पे था।
  • वो सामने खड़े पहाड़ नहीं हैं जो आपको थका देते हैं , बल्कि वो आपके जूतों में पड़े कंकड़ हैं जो आपको थका देते हैं।
  • घर पर मैं एक अच्छा व्यक्ति हूँ : पर मैं नहीं चाहता कि दुनिया ये जाने . मैंने देखा है कि विनम्र लोग अधिक आगे नहीं जाते।

Leave a Reply